इंदौर के युवाओं ने पेश की मिसाल, झोंपड़ी में रह रहे शहीद के परिवार को 27 साल बाद मिली छत

    0
    18

    शहीद की पत्नी को गृहप्रवेश कराते युवा – फोटो : Social Media

    ख़बर सुनें

    स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर इंदौर के बेटमा के युवाओं ने शहीद के परिवार को 27 साल बाद पक्का घर बनवाकर तोहफे में दिया। गांव के युवाओं ने अपनी हथेलियों पर शहीद की पत्नी को पैर रखवाकर घर में प्रवेश करवाया।

    विज्ञापन

    सीमा सुरक्षा बल के जवान मोहन सिंह सुनेर 27 साल पहले असम में शहीद हो गए थे। उनका परिवार अब तक झोंपड़ी में गुजर-बसर कर रहा था। गांव के कुछ युवाओं ने उन्हें पक्का मकान देने के लिए एक अभियान चलाया जिसमें देखते ही देखते 11 लाख रुपये जमा हो गए।

    गांववालों ने इसमें से 10 लाख रुपये से शहीद के परिवारवालों के लिए एक मकान तैयार कराया और 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर शहीद की पत्नी को गृहप्रवेश भी करवाया।

    नहीं मिला सरकारी योजनाओं का लाभ
    शहीद के परिवार हालत देखकर क्षेत्र के कुछ युवाओं ने ‘वन चेक-वन साइन’ नाम से अभियान शुरू किया। मकान बनाने के लिए 11 लाख रुपये इकट्ठा भी हो गए, जिससे दस लाख रुपए में शहीद मोहन सिंह सुनेर का घर तैयार हो गया। बचे हुए एक लाख रुपये से मोहन सिंह की प्रतिमा को तैयार किया गया है।

    असम में तैनात थे मोहन सिंह
    सुमेर सिंह असम में पोस्टिंग के दौरान 31 दिसंबर 1992 को शहीद हो गए थे। उनका परिवार तब से झोंपड़ी में रह रहा था। जब वे शहीद हुए उस समय उनकी पत्नी गर्भवती थीं और उनका एक तीन साल का बेटा भी था।
     

     

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here