2020 चुनाव की तैयारी में जुटे नीतीश, स्वतंत्रता दिवस के मंच से बीते 4 सालों के कामों का लेखाजोखा किया पेश

0
75

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 73वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पटना के गांधी मैदान में झंडारोहण किया. हर साल की तरह सीएम नीतीश ने झंडारोहण के बाद बिहार की जनता को संबोधित भी किया. इस बार का संबोधन हर साल से अलग था. इस बार के संबोधन में नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री के तौर पर अपने बीते पांच सालों में शुरू की गई तमाम योजनाओं का लेखाजोखा जनता के सामने रखा. नीतीश कुमार के भाषण से साफ नजर आया कि नीतीश अपने ‘मिशन 2020’ की तैयारी में जुट गए हैं. पूरा देश जहां स्वतंत्रता दिवस के जश्न में डूबा नजर आया. वहीं सीएम नीतीश कुमार अपने मिशन 2020 की तैयारी में जुटे नजर आए.

सीएम नीतीश कुमार ने किया सरकार की चल रही योजनाओं का जिक्र
पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में झंडारोहण के बाद नीतीश कुमार के भाषण में इस बात के संकेत भी मिल गए हैं. दरअसल, झंडारोहण के बाद सीएम नीतीश कुमार ने सरकार की चल रही योजनाओं का जिक्र शुरू किया. नीतीश कुमार हर 15 अगस्त पर इस तरह की ही भाषण शैली का इस्तेमाल करते रहे हैं. लेकिन इस बार उन्होंने अपने बीते चार सालों में शुरू की गई योजनाओं का पूरा ब्योरा जनता के सामने रखा. महागठबंधन के साथ 2015 में सरकार बनाने के बाद नीतीश कुमार ने सबसे बड़ा फैसला पूर्ण शराबबंदी का लिया था. नीतीश कुमार की इस पहल को लेकर कई स्तर पर समीक्षा भी हुई. लेकिन नीतीश कुमार ने अपने स्वतंत्रता दिवस समारोह के भाषण के दौरान शराबबंदी को लेकर हुए नफा नुकसान का पूरा ब्योरा जनता के सामने रखा. नीतीश कुमार ने कहा कि शराब पीने के लत वाले लोग मुझ पर कुछ भी उल्टा-पुल्टा आरोप लगाते रहते हैं. कुछ पढ़े-लिखे लोग भी शराब को अपना अधिकार समझते हैं. जो बिकलकुल गलत है.

नीतीश कुमार ने जनता को बताया शरबाबंदी का फायदा
शराबबंदी का फायदा बताते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि हम लोगों ने 2016 में शराबबंदी की थी. जिसके बाद 2016 से डब्लू एच ओ ने इस फैसले को लेकर एक सर्वे भी कराया जो 2018 तक चला. सर्वे के दौरान कई चौंकाने वाले खुलासे हुए. 2016 में शराब के कारण पूरे विश्व में लगभग 30 लाख लोगों की मृत्य हुई. शराब के सेवन के कारण युवाओं की मृत्यु दर 13.5 फीसदी रही. शराब के कारण सड़क दुर्घटना, आपसी झगड़े, मिर्गी का रोग, माउथ कैंसर, लिवर का कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर जैसी बीमारियों की पुष्टि भी हुई. शराबबंदी के जरिए इन बीमारियों और मौत की संख्या को कम करने की कोशिश की गई है. जो लोग शराब को लेकर गड़बड़ करेंगे उन पर कार्यवाई होगी. यहां तक की गलत करने वाले सरकारी कर्मचारियों को भी सेवा में नहीं रहने दिया जाएगा. इसके साथ ही नीतीश कुमार ने कहा कि कानून से किसी चीज को अमल में नही लाया जा सकता. उसके लिए जागरूकता अभियान भी जरूरी है.

सात निश्चय योजनाओं का लेखा जोखा भी जनता के सामने पेश किया
इसके अलावा सीएम नीतीश कुमार ने अपने इस कार्यकाल में शुरू की गई सात निश्चय योजनाओं का लेखा जोखा भी जनता के सामने पेश किया. नीतीश कुमार ने कहा कि हर घर नल का जल योजना के तहत अबतक 50 लाख 87 हजार घरों तक योजना का लाभ पहुंच चुका है. अगले साल तक इसे पूरा कर लिया जाएगा. पक्की नाली गली योजना के तहत अब तक ग्रामीण क्षेत्रों में 77 लाख 11 हजार घरों तक योजना पहुंच चुकी है. वहीं शहरी क्षेत्रों में 3 लाख 34 हजार घर योजना से आच्छादित हो चुके हैं. वहीं हर घर शौचालय योजना के तहत 7635 पंचायतों को ओडीएफ घोषित किया जा चुका है. इस वर्ष अंत तक योजना को पूरा करने का लक्ष्य है. कृषि के लिए किसानों को डेडिकेटड फीडर के जरिये बिजली कनेक्शन दिये जा रहे हैं. 26 जून तक सरकार के पास 2 लाख 62 हजार आवेदन बिजली कनेक्शन के लिए आए. जिसमें एक लाख 6 हजार 204 लोगों को कृषि के लिए बिजली कनेक्शन दे दिये गये हैं. 2019 तक बाकी बचे किसानों को भी बिजली कनेक्शन दे दिया जाएगा.

बेहतर बिहार बनाने के लिए उठाए जाएंगे तमाम जरूरी कदम
नीतीश कुमार ने हाल में शुरू किए गए समाज के सभी वृद्ध जनों के लिए पेंशन योजना का भी हाल बताया. नीतीश कुमार ने कहा कि 30 जून तक सरकार के पास 3 लाख 94 हजार 209 लोगों ने पेंशन योजना का आवेदन दिया था. जिसे स्वीकृति दे दी गई है और पैसे लाभुकों के खाते में जा रहे हैं.
वहीं बाढ़ पीडितों की मदद के लिए 900 करोड़ रुपये अब तक बांटे जा चुके हैं. जिससे 15 लाख 739 परिवारों को फायदा मिल चुका है. नीतीश कुमार ने अपने संबोधन में आगे कहा कि अगले साल तक सभी जिला अस्पतालों में डायलिसिस और सीटी स्कैन की सुविधा उपलब्ध करा दी जाएगी. इसके अलावा अप्रैल 2020 से सभी पंचायतों में 9वीं की पढाई शुरु कर दी जाएगी. पर्यावरण को बचाने के लिए पटना के सभी डीजल वाले ऑटो सीएनजी में बदले जाएंगे. नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार का हरित आवरण क्षेत्र 17 फीसदी तक बढाए जाने की योजना है जो अब तक 15 फीसदी तक पहुंच चुका है. बिहार में लॉ एण्ड आर्डर को बेहतर बनाने कि लिए 15 अगस्त से पुलिस विभाग में लॉ एण्ड आर्डर और अनुसंधान विंग को अलग किए जाने के महत्व पर भी नीतीश कुमार ने प्रकाश डाला. मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी योजनाओं को लाभ आम आदमी को तय समय पर मिल सके इसके लिए सरकार ने लोक सेवाओं का अधिकार कानून 2011 में लागू किया. 2011 से अब तक 21 करोड़ 93 लाख लोगों को लोक सेवाओ का अधिकार कानून के तहत लाभ मिल चुका है. उसी तरह लोक शिकायत निवारण कानून के तहत 5 लाख आवेदन पर सुनवाई हो चुकी है. नीतीश कुमार ने कहा कि अब लोक शिकायत निवारण कानून में सड़क को भी शामिल कर दिया गया है. अगर कहीं सड़क खराब हो तो लोग इस कानून की मदद से सड़क ठीक करवा सकते हैं.

नीतीश कुमार ने अपने भाषण में विपक्ष पर निशाना भी साधा
नीतीश कुमार ने कहा कि 5 सितंबर से बिहार के स्कूलों में उन्नयन योजना शुरु की जा रही है ताकि यहां के बच्चों को प्रारंभिक कक्षा से ही टेक्नॉलजी के जरिए शिक्षा दी जा सके. इसके साथ ही सीएम ने बाढ़ और सूखे को लेकर 18 अगस्त को फिर से हालात की समीक्षा की बात कही है. नीतीश कुमार ने सूखे के मद्देनजर किसानों को दिए जाने वाले डीजल अनुदान की राशि को बढाकर 50 रुपये से 60 रुपये किए जाने की भी घोषण की. नीतीश कुमार ने अपने भाषण में विपक्ष पर निशाना भी साधा. नीतीश कुमार ने कहा कि जिन लोगों ने आज तक कुछ नहीं किया वे मुझ पर सवाल खड़े करते हैं. नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में कानून का राज कायम है. न्याय के साथ विकास हम कर रहे हैं. सामाजिक सौहार्द और सांप्रदायिक सौहार्द यहां कायम है. क्राइम करप्शन और कमुनालिस्म से हम समझौता नहीं कर सकते.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here