मोदी-जिनपिंग की मुलाकात में विकास और सहयोग पर होगी बात, नहीं छिड़ेगा कश्मीर मुद्दा

    0
    11

    न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 10 Oct 2019 03:43 AM IST

    प्रधानमंत्री मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो) – फोटो : पीटीआई

    ख़बर सुनें

    खास बातें

    • चीन ने की अपने राष्ट्रपति के शुक्रवार को भारत दौरे की आधिकारिक घोषणा
    • दोनों नेताओं के बीच पिछले साल हुआ था अनौपचारिक वार्ता का पहला प्रयोग
    • सरकार को उम्मीद है कि विवादों के बावजूद कई मसलों पर बनेगा ठोस रोडमैप 
    • भारत उठाएगा व्यापार घाटे का मुद्दा, पाकिस्तान पर भी हो सकती है बात
    चीन ने बुधवार को अपने राष्ट्रपति शी जिनपिंग के भारत दौरे की आधिकारिक घोषणा कर दी। जिनपिंग 11 अक्तूबर यानी शुक्रवार को करीब 24 घंटे लंबे दौरे पर तमिलनाडु के प्राचीन मंदिरों के लिए प्रसिद्ध तटीय शहर महाबलीपुरम (ममल्लापुरम) पहुंचेंगे। 

    विज्ञापन

    यहां शुक्रवार और शनिवार को उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दूसरी अनौपचारिक शिखर वार्ता होगी। हालांकि दोनों देशों के संबंधों में तल्खी का सबब बने रहे कश्मीर मुद्दे पर चर्चा नहीं होगी, दोनों नेता विकास की व्यापक राह का खाका खींचने का प्रयास करेंगे।

    विदेश मंत्रालय ने भी बुधवार को जिनपिंग के दौरे पर छाए संशय दूर करते हुए इसे दोनों राष्ट्राध्यक्षों की अनौपचारिक मुलाकात बताया और साफतौर पर कहा कि इस दौरान कश्मीर के मुद्दे पर कोई बातचीत नहीं की जाएगी, क्योंकि यह भारत का संप्रभु मसला है। 

    हालांकि जिनपिंग की ओर से सवाल करने पर पीएम मोदी उन्हें वर्तमान स्थिति बता सकते हैं। विदेश मंत्रालय ने कहा कि अनौपचारिक मुलाकात होने के कारण किसी समझौते या सहमति ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर होने और साझा बयान की उम्मीद नहीं है।

    विज्ञापन
    आगे पढ़ें

    पिछले साल पहली बार हुई थी दोनों नेताओं के बीच अनौपचारिक बातचीत

    विज्ञापन

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here