महाराष्ट्र चुनाव : अपने में ही उलझे कांग्रेसी दिग्गज नहीं कर पाएंगे दूसरों की मदद

    0
    37

    न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई Updated Thu, 10 Oct 2019 04:40 AM IST

    ख़बर सुनें

    खास बातें

    • सोनिया, राहुल या प्रियंका वाड्रा के कब-कहां आने की कोई खबर नहीं
    • वरिष्ठ पार्टी नेताओं की ओर देख रहे लड़खड़ाती कांग्रेस के कार्यकर्ता
    • महाराष्ट्र में नहीं बैठ पा रहा वरिष्ठ नेताओं में समन्वय और तालमेल 
    महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में लड़खड़ाती कांग्रेस के कार्यकर्ता राज्य के वरिष्ठ नेताओं की ओर देख रहे हैं लेकिन वे सब अपनी ही सीटों के संघर्ष में उलझे हैं। दिल्ली से भी पक्की खबर नहीं है कि। हालांकि कुछ सूत्र 12 अक्तूबर से केंद्रीय नेताओं के दिल्ली से आने की बात कह रहे हैं। 

    विज्ञापन

    परंतु फिलहाल स्थिति यह है कि महाराष्ट्र कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में समन्वय और तालमेल नहीं बैठ पा रहा है। जबकि भाजपा के राज्य नेताओं की समन्वय बैठक और बातचीत हर दिन 11 बजे होती है। इस बीच चुनाव लड़ रहे कांग्रेसी नेता वरिष्ठों का इंतजार करने के बजाय घर-घर जाकर प्रचार में लग गए हैं।

    महाराष्ट्र में कांग्रेस के पास पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण से लेकर अशोक चव्हाण, बालासाहेब थोरात, नाना पटोले, सुशील कुमार शिंदे, विश्वजीत कदम, विजय वडेट्टीवार, नसीम खान और यशोमति ठाकुर जैसे नेता हैं। मगर यह भी सच है कि पूर्व मुंबई कांग्रेस अध्यक्षों संजय निरुपम और मिलिंद देवड़ा के नकारात्मक रवैयों ने कार्यकर्ताओं के मनोबल को धराशायी किया है। दोनों चुनावी परिदृश्य से गायब हैं। 

    विज्ञापन
    आगे पढ़ें

    कांग्रेस के 2014 का भी प्रदर्शन न दोहरा पाने की स्थिति

    विज्ञापन

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here