भायखला सीट से शिवसेना प्रत्याशी प्रचार के लिए चुना बाला साहेब का तरीका, बांट रही हैं कॉमिक बुक

0
18

मुंबई: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव 2019 (Maharashtra Assembly Elections 2019) में प्रत्याशी प्रचार में अलग-अलग तरीकों का प्रयोग कर रहे हैं. इसी कड़ी में भायखला विधानसभा सीट पर शिवसेना उम्मीदवार यामिनी जाधव ने प्रचार करने के लिए अब कॉमिक कार्टून का सहारा लिया है. यामिनी जाधव ने खुद के कार्टून कैरेक्टर की कॉमिक बुक प्रचार के लिए प्रकाशित कराई हैं. घर-घर जाकर यामिनी जाधव इन कॉमिक बूक को बांटती दिखती हैं. यामिनी जाधव बीएमसी में शिवसेना पार्षद के तौर पर किए कार्य के साथ उनके सामाजिक कार्यों को भी इस कॉमिक प्रचार बुक में जोड़ा गया है.

इस बुक में कॉर्टून कैरेक्टर खुद यामिनी जाधव हैं. जो कार्टून कैरेक्टर में यामिनी जाधव यहां लोगों से संवाद करती हुई दिखती हैं. युवा वर्ग के मतदाताओं को आकर्षित करने का यह एक प्रयास है. इस प्रचार बुक में महिला के प्रश्न महिला स्वावलंबन और भायखला में किए गए विकास कार्योको इसमें जगह दी है. महिलाओं के प्रश्नो पर उनकी संवेदनशीलता इसमें दिखती है. सार्वजनिक जगहों पर महिला स्तनपान जैसे विषयों को इस कॉमिक बूक प्रचार में जगह मिली है.

इसके लिए यामिनी जाधव ने किए पायलट प्रोजेक्ट को दिखाया है. प्रचार के मुद्दे कुछ भी हो, लेकिन शिवसेना उम्मीदवार यामिनी जाधव ने प्रचार में कॉमिक बूक का इस्तेमाल करके प्रचार कर रही हैं. हिंदी, मराठी और अंग्रेजी भाषा में इस कॉमिक प्रचार बुक को बांटा जा रहा है. वैस मुंबई का भायखला मराठी, उत्तर भारतीयों के साथ मुस्लीम आबादी भी काफी है. ऐसे में तीन भाषआओं में यह कॉमिक प्रचार बुक छापा गया है.

यहा एमएआयएम के मौजुदा विधायक वारिस पठाण से शिवेसना उम्मीदवार यामिनी जाधव का मुकाबला होगा तो वहीं कांग्रेस के मधु चव्हाण भी यहां से चुनाव उतरे हैं. मराठी मतदाताओं के साथ अन्य भाषिकों को साधने का प्रयास है.

यामिन जाधव का कहाना है कि हम शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे के शिव सैनिक हैं. बालासाहेब ठाकरे व्यंगचित्र के माध्यम से विरोधीयों को जवाब देते थे. यही हमने कॉमिक से माध्यम से मेरी बात मैंने मतदाताओं के सामने रखी है. युवाओं को यह पंसद आयेगा. वहीं भायखला के कांग्रेस उम्मीदवार मधु चव्हाण का शिवेसना उम्मीदवार का कॉमिक प्रचार पंसद ना आया हो. उन्होंने इसपर तंज कसा है, वह कहती हैं कि ऐसे कॉमिक्स हम पढ़ते नहीं हैं, इसे पक्षी की तरह पिंजरे में बंद कर देना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here