ड्राइविंग टेस्ट लेने के लिए अपनी गाड़ी ले जाने की जरूरत नहीं, आरटीओ पर मामूली किराए पर मिल जाएगी

0
24

ख़बर सुनें

ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करने वाले लोगों में अक्सर कई ऐसे भी होते हैं जिनके पास अपनी कार नहीं होती है और ड्राइविंग टेस्ट के लिए उन्हें उधार किसी परिचित की कार मांगनी पड़ती है या किराया देना पड़ता है। ऐसे आवदेकों की परेशानी को ध्यान में रखते हुए यातायात विभाग ड्राइविंग टेस्ट के लिए जल्द ही कार और दोपहिया वाहन एक निर्धारित शुल्क के साथ उपलब्ध कराएगे। 

विज्ञापन

परिवहन विभाग के एक अधिकारी ने कहा, “ड्राइविंग टेस्ट देने के लिए आवेदकों को अपनी कार या दोपहिया वाहन लाना पड़ता है, जो कि उन लोगों के लिए आसान नहीं है जिनके पास एक या परिवार में किसी के भी पास वाहन नहीं है। ऐसे लोगों की मदद करने के लिए हम अपने क्षेत्रीय परिवहन कार्यालयों (आरटीओ) में एक कार सेवा शुरू करने की योजना बना रहे हैं।” उन्होंने कहा, “यह योजना अभी शुरुअती अवस्था में है और इसके अनुमोदन के लिए एक औपचारिक प्रस्ताव को अंतिम रूप दिया जा रहा है।”

योजना के अनुसार, परिवहन विभाग निजी विक्रेताओं को संलग्न करने का इरादा रखता है, जो एक शुल्क के साथ कार और दोपहिया वाहन मुहैया कराएंगे। अधिकारी ने कहा, “यह भारत में अपनी तरह की पहली सुविधा होगी और हम चाहते हैं कि यह सेवाएं सस्ती हों। वाहनों को मामूली शुल्क पर प्रदान किया जाएगा और हालांकि शुल्क अभी तय नहीं किया गया है, फिर भी यह कारों के लिए 200-300 रुपये और दोपहिया वाहनों के लिए 100 रुपये या उससे कम होगा।” 

उन्होंने कहा, “हमने देखा है कि ऐसे कई आवेदक होते हैं जो एक स्थायी ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करते हैं लेकिन कार या दोपहिया वाहन के मालिक नहीं हैं। ऐसे आवेदक आमतौर पर परिवार या दोस्तों से वाहन उधार लेते हैं। हालांकि दोपहिया वाहन उधार मिल जाना तुलनात्मक रूप से आसान है, लेकिन ऐसे लोगों को ढूंढना मुश्किल है जो अपनी कार को ड्राइविंग लाइसेंस आवेदक को उधार देने के लिए तैयार हों।” उन्होंने कहा, “ऐसे आवेदक हैं जिन्हें ड्राइविंग लाइसेंस की आवश्यकता होती है क्योंकि उनकी नौकरी में वाहन चलाना शामिल है, भले ही वे खुद गाड़ी के मालिक नहीं हों,” उन्होंने कहा।

अधिकारी ने बताया कि कई लोग कार किराए पर लेने के लिए मजबूर हैं, जिनकी उन्हें एक घंटे से ज्यादा जरूरत नहीं होती है। उन्होंने कहा, “हमारा मानना हैं कि कार को किराये पर लेने की बजाय, लोग इस सेवा को पसंद करेंगे जो हम प्रदान करने की योजना बना रहे हैं क्योंकि यह सस्ती होगी।” 

पहली ‘कार सेवा’ सराय काले खान में दक्षिण क्षेत्र आरटीओ से शुरू होने जा रही है और इसी तरह की सेवाएं धीरे-धीरे अन्य सभी आरटीओ में प्रदान की जाएंगी। अधिकारी ने कहा, “हमारी योजना दिल्ली में हर आरटीओ में कम से कम दो कार और दो दोपहिया वाहन उपलब्ध कराने की है।” 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here