कर्नाटक: पूर्व डिप्टी सीएम और कांग्रेस नेता परमेश्वर की मुसीबत बढ़ी, IT छापे में 4.52 करोड़ रुपए बरामद

0
10

बेंगलुरु: कर्नाटक (Karnataka) के पूर्व उप मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता जी. परमेश्वर (G Parameshwara) के भाई के बेटे आनंद के घर पर आयकर विभाग (Income Tax Department) आज दूसरे दिन भी जारी है. गुरुवार को परमेश्वर के करीब 30 अलग-अलग ठिकानों से 4.52 करोड़ रुपए बरामद किए गए. इसके अलावा सिद्धार्थ मेडिकल कॉलेज में भी तलाशी और जब्ती अभियान चलाया जा रहा है. कॉलेज का संचालन परमेश्वर से संबंधित ट्रस्ट करता है. परमेश्वर 14 महीने तक चली जेडी (एस)-कांग्रेस गठबंधन सरकार में उप मुख्यमंत्री थे और वह 6 साल तक पार्टी के प्रदेश इकाई के अध्यक्ष भी रह चुके हैं.

आयकर विभाग की टीम ने गुरुवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जी.परमेश्वर की संपत्तियों पर कथित रूप से उनके व परिजनों के स्वामित्व वाले शिक्षण संस्थानों के जरिए कर चोरी के मामले में छापेमारी की. आयकर विभाग के महानिदेशक ने बताया कि गुरुवार को पूर्व डिप्टी सीएम जी. परमेश्वर के करीब 30 ठिकानों पर की गई छापामार कार्रवाई में कुल 4.52 करोड़ रुपये बरामद किए गए. एक अधिकारी ने बताया, “हमारे विभाग की जांच इकाई के अधिकारी बेंगलुरू ग्रामीण में तुमाकुरु और नेलामांगला में परमेश्वर द्वारा संचालित सिद्धार्थ ग्रुप ऑफ एजुकेशन इंस्टीट्यूट में तलाशी व जब्ती अभियान चला रहे हैं.”

इसके अलावा कहा गया है कि कोलार और चिक्कबेलापुरा में वरिष्ठ कांग्रेस नेता आर.एल. जलप्पा के स्वामित्व वाले शैक्षणिक संस्थानों के कार्यालयों पर छापे मारे गए. देखें- LIVE TV

छापे से कोई आपत्ति नहीं
परमेश्वर ने पत्रकारों से कहा कि उनके परिवार ने उन्हें सूचित किया है कि तुमाकुरु में उनके कार्यालयों और आवासों पर छापे मारे गए हैं. परमेश्वरा ने कन्नड़ में पत्रकारों से कहा, “मुझे भी पता चला है कि आईटी अधिकारियों ने हमारे संस्थानों पर छापे मारे हैं. मुझे छापे से कोई आपत्ति नहीं है क्योंकि वे किसी भी दस्तावेज का सत्यापन कर सकते हैं. उन्हें हमारे खिलाफ जांच करने दीजिए.”

राजनीति से प्रेरित
छापे पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने ट्वीट कर कहा, “परमेश्वर, आर.एल. जलप्पा व अन्य के खिलाफ सिलसिलेवार आईटी छापे खराब इरादे के साथ राजनीति से प्रेरित हैं. वे केवल कर्नाटक कांग्रेस के नेताओं को निशाना बना रहे हैं, क्योंकि नीति व भ्रष्टाचार के मुद्दे पर वे हमारा सामना करने में विफल रहे हैं. हम इस तरह की रणनीति से हिम्मत नहीं हारेंगे.”

जलप्पा के रिश्तेदारों पर छापे
डोड्डाबालापुरा और चिक्कबेलापुरा शहरों में जलप्पा के रिश्तेदारों के आवासों और कार्यालयों पर भी छापे मारे गए और आयकर अधिकारियों ने वहां से महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here