कमलेश तिवारी हत्याकांड: नेपाल भागना चाहते थे हत्यारे, सरेंडर को वकील से किया संपर्क

    0
    18

    न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लखनऊ Updated Tue, 22 Oct 2019 09:21 AM IST

    कमलेश तिवारी हत्याकांड – फोटो : amar ujala

    ख़बर सुनें

    हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या करके दोनों कातिल शेख अशफाक हुसैन और पठान मोईनुद्दीन नेपाल भागना चाहते थे। इसके लिए लखीमपुरखीरी से टैक्सी बुक कराई थी। हालांकि बॉर्डर पर सख्ती देख दोनों शाहजहांपुर चले गए। इस बीच टैक्सी चालक के ही मोबाइल से आत्मसमर्पण के लिए सोमवार सुबह करीब 8.30 बजे ठाकुरगंज के एक वकील को फोन कर अदालत में सरेंडर करने के बारे में बातचीत की।

    विज्ञापन

    नेपाल जाने के लिए बुक कराई थी टैक्सी, बॉर्डर पर चौकसी देख लौटे
    जिस नंबर से फोन आया था वह लखीमपुर के पलिया निवासी युवक का है। दोपहर को पुलिस की एक टीम लखीमपुर रवाना कर दी गई। पुलिस सूत्रों का कहना है कि पलिया पहुंची पुलिस टीम ने संदिग्ध युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने खुद को टैक्सी चालक बताया।

    उसने बताया कि दो लोगों ने टैक्सी बुक कराई थी। वह नेपाल बार्डर पार करना चाहते थे लेकिन वहां काफी चौकसी थी इसलिए दोनों शाहजहांपुर गए और टैक्सी छोड़ दी। उससे पूछताछ करने के साथ ही दोनों हत्यारों की लोकेशन खंगाली जा रही है।

    गुजरात से फोन करके हत्यारों के लिए बुक कराई गई थी टैक्सी
    हत्यारों को नेपाल पहुंचाने के लिए गुजरात से फोन किया गया था। पुलिस सूत्रों ने बताया कि टैक्सी चालक के मालिक लखीमपुर के पलिया में रहते हैं जबकि उनके रिश्तेदार गुजरात में हैं। हत्यारों के लिए उन्हीं ने टैक्सी मालिक को फोन किया था। पुलिस सूत्रों ने बताया कि टैक्सी का भाड़ा 5000 रुपये था जिसका भुगतान भी गुजरात से ही हुआ था।

    विज्ञापन
    आगे पढ़ें

    शाहजहांपुर में सीसीटीवी कैमरों में नजर आए हत्यारे

    विज्ञापन

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here