अयोध्या फैसले पर उमा भारती बोलीं- सबसे पहले आडवाणी जी के चरणों में मात्था टेकूंगी

0
12

नई दिल्ली: अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर ऐतिहासिक फैसला आने के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेत्री उमा भारती का कहना है कि वह सबसे पहले अपनी पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवानी के घर जाकर उनको प्रणाम करना चाहेंगी.

पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा, मैं हिमालय, उत्तराखंड गंगा किनारे से अभी-अभी दिल्ली पहुंची हूं. आज बीजेपी के पदाधिकारियों की बैठक है. रास्ते में ही मैंने यह फ़ैसला सुना तो मैं सबसे पहले आडवाणी जी के घर पहुंचना चाहती हूं, मैं उन्हें प्रणाम करूंगी और उन्होंने जो सीख दी है, उसपे आगे भी चलूंगी.

राम मंदिर आंदोलन में शामिल रहीं बीजेपी नेत्री ने लगातार एक के बाद एक ट्वीट कर कहा कि आडवाणी जी ही वह भारतीय राजनीति के पुरोधा हैं जिन्होंने छद्म धर्मनिरपेक्षता बनाम राष्ट्रवाद (Pseudo Secularism Vs Nationalism) की बहस भारत के राजनीति के पटल पर छेड़ी थी. उसी बहस के मंथन में से अयोध्या आंदोलन आगे बढ़ा.

मोदी सरकार में गंगा मंत्रालय का जिम्मा संभाल चुकीं उमा भारती ने लिखा, ”भारत की राजनीति में आडवाणी जी वह पहले नेता थे जिन्होंने छद्म धर्मनिरपेक्षता की चूलें हिला कर रख दी थी. उन्हीं के कारण आज भाजपा इस मुकाम पर है. लोगों ने जाति-संप्रदाय तथा वर्ग भेद से ऊपर उठकर मोदी जी का साथ दिया.”

उन्होंने लिखा कि आज-अभी कुछ मिनटों में जब मैं उनके सामने खड़ी होंगी, तो मुझे लगेगा ही नहीं कि हिमालय पीछे छूट गया है, क्योंकि वो हिमालय जैसे ही हैं – महान और शीतल. ईश्वर उन्हें शतायु करे एवं स्वस्थ रखे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here