अब सफलता पानी होगी आसान, ये फंडे आएंगे काम

0
8

ख़बर सुनें

यदि हम यह चाहते हैं कि हमें कम से कम काम करने से ही सफलता मिले, तो हम अपने आपको ही धोखा दे रहे हैं। सफल लोग बहुत कड़ी मेहनत करते हैं। बहुत सी चीजों का त्याग करते हैं, कई बार असफल होते हैं, लेकिन फिर भी शार्टकट्स का चुनाव नहीं करते हैं। विंस्टन चर्चिल का कथन यहां उपयुक्त लगता है कि बार-बार असफल होने पर भी उत्साह ना खोना ही सफलता है। अतः आप सफल इंसान बनने के लिए कमर कस ही रहे हो तो सबसे पहले आपको अपनी आदतों में सुधार करना होगा। आइए, जानते हैं कि कैसे…

समय के महत्व की समझ :

सफल लोग जीवन में सफलता का मतलब समझते हैं। इसलिए ऐसे लोग एक-एक पल का बेहतर इस्तेमाल करने में विश्वास रखते हैं। एक कहावत है जो वक्त के साथ नहीं चला, वक्त उसे पीछे छोड़ देता है यानी सफलता उससे दूर होती जाती है। हांलाकि यह भी उतना ही सच है कि समय प्रबन्धन एक कला है, लेकिन इस कला को जानने के लिए न तो कोई बड़ा प्रयास करने की आवश्यकता है और न ही किसी बड़ी संस्था या विशेषज्ञों की सलाह की। सफल लोग अपने काम की प्राथमिकताओं को भी समझते हैं और इसलिए एक-एक पल का बेहतर इस्तेमाल करने में विश्वास रखते हैं। वे जरा भी समय व्यर्थ गंवाना पंसद नहीं करते हैं। वे सिर्फ अपनी जिम्मेदारियां ही नहीं निभाते बल्कि दूसरों को भी साथ लेकर चलते हैं। सफल लोग खुद को हमेशा बेहतर समझते हैं। श्रेष्ठ तथा सफल लोग अपने बारे में पूरी जानकारी रखते हैं। वे जानते हैं कि जिंदगी बहुत खूबसूरत है। बीता हुआ दिन, बीता हुआ कल और बीता हुआ एक पल आपकी जिंदगी में दोबारा नहीं आता।

जिंदादिल और उत्साह रखते हैं भरपूर :

सफल लोग जानते हैं कि उनका खुशमिजाज तथा जिंदादिल होना, उनको तो उत्साह से भरपूर रखेंगे ही दूसरे लोग भी उनके साथ खुश रहेंगे। जाहिर है जब आप गर्मजोश होंगे तो लोग आपको सहयोग करने के लिए हाजिर भी रहेंगे, मानवता तथा समाज के लिए एक सफल व्यक्तित्व का निर्माण तभी होगा जब हम खुशियां बांटने वाले बनें ।

विज्ञापन

सफल व्यक्ति दूसरों की प्रशंसा खुलकर करते हैं :

एक सफल व्यक्ति यदि अपने सहकर्मी की प्रशंसा करता है तो उस व्यक्ति की काम करने की उमंग बढ़ जाती है। यह बात सौ फीसदी सच है कि प्रशंसा प्रोत्साहन देती है और प्रोत्साहन जीवन को मकसद देता है। यही मकसद आदमी से न जाने कितने बड़े काम करवा देता है। “कौन बनेगा करोड़पति’ कार्यक्रम मात्र अमिताभ के अभिनय से नहीं चला । उन्हें सफलता इसलिए भी मिली कि वे हर वर्ग के दर्शकों को कार्यक्रम में घुलाए-मिलाए रखते हैं। जो हॉट-सीट पर बैठे हुए किसी भी प्रतिभागी के उत्साह ला देता था। तो ऐसा होता है प्रशंसा का कमाल।

विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here